Monday, 7 November 2016

कहानी बहन की चुदाई की

behn ki choot
मैंने अपनी बहन को कभी सेक्स की नज़र  से नहीं देखा था और ना ही मेरे दिल में उसके साथ सेक्स करने की कोई फेंटेसी थी. उन दिनों एक फिल्म “गर्लफ्रेंड” आई हुई थी. उसने आई थिंक ईशा कोइपकर और अमृता अरोरा लेस्बियन बनी थी. इस तरह की फिल्मे हमारे फॅमिली में नहीं देखी जाती है. एक रात केबल वाले ने वो फिल्म लगा दी. मैंने टीवी बंद कर दिया और सब अपने – अपने रूम में चले गये. मैं और मेरी बहन का रूम सेम है, मगर बेड अलग – अलग है. भला हो उस मच्छर का, जिस के काटने की वजह से मेरी आँख खुल गयी और उस वक्त रात के कोई २ बज रहे थे. मैंने देखा, कि मेरी बहन अपने बेड पर नहीं थी. मैं रूम से बाहर निकला, तो देखा कि वो टीवी पर गर्लफ्रेंड फिल्म देख रही थी.

उस वक्त एंड चल रहा था फिल्म का. मैं हैरान रह गया, कि मेरी बहन ऐसी है. मैं अपने बेड पर आकर लेट गया और मुझे नीद नहीं आ रही थी और यहीं सोच रहा था, कि मेरी बहन भी कितनी खुवार है. इतने में वो अपने बेड पर आकर लेट गयी. अभी मैं हैरानी से बाहर भी नहीं निकला था, कि एक और हैरान मंजर ने मेरे होश उड़ा दिए. मेरी बहन अपने बेड पर उल्टा लेट कर हिल रही थी. पहले तो मैंने नोटिस नहीं किया, फिर गौर से देखा, तो पता चला, कि वो तो मजे ले रही थी. वो अपने हिप्स हिला रही थी और फिर अपनी सलवार में हाथ डाल दिया और फिर हिप्स को आगे पीछे करने लगी. मेरी आँखे फटी की फटी रह गयी. ख़ैर मैं काफी थका हुआ था, इसलिए पूरा एक्शन नहीं देख सका था और ना जाने मुझे कब नीद आ गयी.

उस दिन के बाद मैंने अपनी सेक्स सिस्टर को नोटिस करना शुरू कर दिया. उसकी फिंगर वगरह.. जब वो झाड़ू लगाती और नीचे झुकती.. तो उसकी प्यारी से क्लीवेज दिख जाती थी. वो उस समय किसी हेरोईन से कम नहीं दिखती थी. उस से फिर मैंने थोड़ा फ्री होना शुरू कर दिया. मतलब ये कि फ्री तो हम पहले भी थे, लेकिन मैं उसके और क्लोस्ज हो गया. उस से बातें शेयर करने लगा. रात को हम दोनों अपनी – अपनी बातें एक दुसरे से शेयर करते.

हंसी मजाक में ताली मारते. सिर पर चपत लगाते.. गुद्गुद्दी भी करते… वगरह – वगरह… कई बार गुद्गुद्दी करते – करते मेरा हाथ उसके बूब्स से टच हो जाते थे और मैं भी बैगेर अंडरवियर के उसके साथ गुद्गुद्दी करता और वो मुझे करती थी और उसका हाथ मेरे लंड से कई बार टकरा जाता था. बस ये ही चीज़ मैं चाहता था, कि मेरी बहन ये जान जाए, कि मैं सिर्फ उसका भाई नहीं हु, बल्कि एक आम लड़का हु और मेरे पास भी वो मेन टूल है, जीकि लडकियों को खुवार कर देता है.

एक रात हम दोनों बातें करते – करते सो गये. थोड़ी देर के बाद, मुझे बेड पर हिलने की आवाज़ आई, तो देखा.. पहले की तरह ही मेरी बहन अपनी चूत को सहला रही थी और मजे ले रही थी. मैंने दूसरी तरफ किया और मैंने भी जोर – जोर से बेड पर हिलना शुरू कर दिया और धक्के लगाने शुरू कर दिए. हिलने की आवाज़ से वो रुक गयी और शायद मेरी तरफ पलट कर देखने लगी. मेरा मुह उसकी दूसरी साइड था. इसलिए मैंने उसे नहीं देखा, कि वो अब किया कर रही है? मैं अपना लंड पकड़ कर सहलाने लगा और बेड पर झटके देने लगा. मुझे उसे सिर्फ ये देखना था, कि मैं भी उसकी तरह खुवार हु.

अगले दिन मैं जानबुझ कर के उसके करीब – करीब रहने लगा. ताकि मुझे मौका मिले, कि मैं उसकी क्लीवेज देख सकू. उसे टच कर सकू. ये सब मैं उसे ये जताने के लिए कर रहा था, कि उसे ये अहसास हो कि मैं उसमे इंटरेस्टेड हु. पहले तो वो दुपट्टा गिर जाने पर दौबारा सही कर रही थी, मगर फिर उसने दुपट्टा हटा दिया. जिस से मुझे उसकी क्लीवेज दिखने लगी. अब मुझे भी अहसास होने लगा, कि ये सब उसने मुझे अपनी बॉडी और फिगर दिखाने के लिए किया था.

उस रात भी वो फिन्गेरिंग कर रही थी और हिप्स को हिला कर मज़े ले रही थी. उसकी पीठ मेरी तरफ थी. यहाँ मैं बताना चाहता हु, कि मेरे बेड और उसके बेड में थोड़ा सा ही फासला है और अगर मैं अपने बेड के एंड पर आकर उसे टच करने की कोशिश करू, टी मुश्किल से सही, मगर टच हो जाएगा. उस वक्त मुझ से कण्ट्रोल नहीं हो रहा था और मैंने अपना पैर उसके हिप से लगा दिया. वो फ़ौरन रुक गयी और मेरी तरफ देखने लगी. मैं सोने की एक्टिंग करने लगा. उसने थोड़ी देर बाद मेरा पैर अपने हिप्स से हटा दिया और हम सो गए. अगली सुबह वो मुझे बहुत अजीब सी निगाहों से देख रही थी. मैं उसके पास गया और उसे गुद्गुद्दी करने लगा, तो वो भी पलट कर मुझे गुद्गुद्दी करने लगी. मैंने उसके हाथ को पकड़ा और अपने लंड से टच करवा दिया और ऐसे बिहेव किया, जैसे कि मैं उसको गुद्गुद्दी करने से रोकना चाह रहा हु.

अगली रात मैं नीद में था और अचानक मेरी आँख खुली, तो मुझे महसूस हुआ, कि कोई भारी चीज़ मेरे लंड के ऊपर रखी हो. मैंने देखा, तो पता चला, कि मेरी बहन के पैर है. मैं एकदम से हैरान रह गया, कि ये भी खुवार मेरे लंड में इंटरेस्ट ले रही थी. मेरा लंड एकदम से खड़ा हो चूका था. मैं बहुत ही खुवार होने लगा था और मैंने हाथ से उसके पैर को अपने लंड पर रगडा. फिर मैंने सोचा, कि अगर मेरा पानी निकल गया, तो उसका पैर गन्दा हो जाएगा. इस लिए मैंने बाथरूम में जाकर मुठ मार ली. इस से मुझे पता चल गया, कि आग दोनों तरफ लगी हुई थी.

दोपहर के वक्त अब्बू ऑफिस में होते है और हमारी अम्मी स्कूल में टीचर है. तो वो स्कूल में होती है. मेरी बहन यूनिवर्सिटी से २ बजे तक आ जाती है. उन दिनों मेरे मीट्रिक के बाद छुट्टिय थी, तो दोपहर के वक्त मैं और बाजी घर में अकेले ही होते है. उस दिन मैंने सोच लिया था, कि बाजी आज तो कुछ ना कुछ करके ही रहना है. मैंने एक कंडोम का पैकेट ख़रीद लिया और उसके घर आने का इंतज़ार करने लगा. वो घर आई, फिर वो नहाई और फिर खाना खाने के बैठने लगी. मैं उसको छेड़ने लगा. वो मुझे मजाक में मना करने के लिए मेरे पीछे रूम तक आई. मैंने पहले से ही रूम के सारे खिड़की और परदे बंद किये होए थे. फिर मैंने उसे गुद्गुद्दी करना शुरू कर दिया. वो हँसते – हँसते बेड पर गिर गयी और मैं उसके ऊपर चढ़ कर बैठ गया. इस तरह मेरा खड़ा हो चूका लंड उसकी चूत से टकराने लगा. फिर मैंने उसकी गुद्गुद्दी करना शुरू कर दिया और उसके बूब्स को दबाने लगा.

फिर मैंने उस का चेहरा दोनों हाथो से पकड़ लिया और उसने कहा – ये क्या कर रहे हो? मैंने कहा – तारीफ कर रहा हु. फिर मैंने उसको किस करना शुरू कर दिया. उस ने मुझे हटा दिया. पहले तो मैं डर गया, कि ये नाराज़ हो गयी है. लेकिन उसके चेहरे पर स्माइल देख कर मुझे समझ आ गया, कि ये अब बोटल में उतर चुकी है. उस ने कहा, कि ये सही नहीं है. तुम ये क्या कर रहे हो? हम दोनों भाई – बहन है. मैंने उस से कहा, कि देखो. तुम एक लड़की हो और मैं एक लड़का. हमारी कुछ सेक्स डिजायर होती है. क्या तुमने कल मेरे लंड पर अपना पैर नहीं रखा था? फिर मैंने मुस्कुराते हुए, उसके होठो पर अपने होठ रख दिए और उसके होठो को सक करने लगा. मैंने अब अपने हाथो को उसके बूब्स पर रख दिया था और उसके बूब्स को दबाने लगा था.

फिर उस ने कहा, कि मुझे अपना लंड पकड़वाओ. मैंने फ़ौरन अपनी पेंट को उतार दिया और अपने लंड को उसके हाथ में दे दिया. वो मेरे लंड को सहलाने लगी. फिर उसने एक से मेरे लंड को अपने मुह में डाल लिया और उसको चूसने लगी. उफ्फ्फ्फ़ क्या मज़ा आ रहा था. फिर मैंने उस को कहा, कि रुको.. अपनी कमीज़ को अब उतारो पहले. उसने अपनी कमीज़ को उतार दिया. ब्रा के ऊपर से उसके गोल – गोल चुचे बड़े ही कमाल के लग रहे थे. मैंने अपने हाथो को पीछे ले जा कर उसकी ब्रा के हुक को खोल दिया और उसकी ब्रा को उतार दिया. मैंने फिर से अपने लंड को उसके मुह में दे दिया और वो मस्ती में मेरे लंड को चूसने लगी थी. मैंने उसके मखमली नंगे बूब्स को दबाना शुरू कर दिया था. अब मैंने भी अपनी शर्ट को उतार दिया. फिर मैंने उसको उसकी सलवार को उतारने को कहा, उसने झट से अपनी सलवार को उतार दिया. मैं अपनी जिन्दगी में पहली बार किसी लड़की को नंगा देख रहा था.

फिर उस ने अपनी पेंटी भी उतार दी और मेरा लंड पकड़ कर अपने मुह में अन्दर – बाहर करने लगी. मेरी खुवारी बढ़ रही थी. मैंने सोचा कि अगर इतनी जल्दी मैं निकल गया, तो मज़ा नहीं आएगा. मैंने उसका मुह अपने लंड से हटाया और अलमारी से कंडोम निकाला और अपने लंड पर चड़ा लिया. वो समझ गयी, कि मैं क्या चाह रहा हु. जब मैं कंडोम पहन कर उसकी तरफ पलटा, तो वो बेड पर लेटी हुई अपनी चूत में फिन्गेरिंग कर रही थी. मैं उसके ऊपर आया और फिर अपनी पोजीशन ले ली. फिर आहिस्ता – आहिस्ता लंड उसकी चूत में डालने लगा. उसके मुह से दर्द की वजह से हलकी – हलकी अहः अहहाह अहहः की आवाज़े निकलने लगी. जब पूरा लंड उसकी चूत के अन्दर घुस चूका था. मैं जोर – जोर से झटके लगा रहा था और अपने दोनों हाथो से उसके बूब्स को दबा रहा था. फिर मैं उसे किस करने लगा. फिर मुझे अचानक एसा लगा, कि उसकी चूत सुकड़ रही है और मेरा पानी निकल गया और उसका पानी भी.

इस तरह मेरा पहला सेक्स एक्सपीरियंस मेरी अपनी बड़ी बहन के साथ हुआ… ये मेरी ट्रिक्स उन लोगो के काम भी आ सकती है.. जो अपनी बहन के साथ करना चाहते है.. मगर डरते है, कि कैसे करे.. मेरा उन से ये कहना है, कि हमारी बहने भी आखिर एक आम लड़की ही होती है और सब की सब खुवार जरुर होती है. बस आपको सही मौका, किस्मत और खुद अपनी बहन का साथ मिलना जरुरी होता है.

kahani behn ki chudai ki, apni real behn ko chod dia, real sister ko chodne ki tricks, chudai karne ka tarika

Rate This Story