Sunday, 9 October 2016

स्कुल में अंजली की चुदाई

हाय! मेरा नाम ललित है. मैं आपके साथ अपना चुदाई अनुभव शेयर करना चाहता हूँ. मैं एक हेयर फेटिश लड़का हूँ और हेयर सेक्स करना हमेशा से मुझे पसंद है. मेरी उम्र 22 साल है, और मैं मिडिल क्लास फॅमिली से बिलोंग करता हूँ और अभी बी.कॉम पूरा किया है. मेरे पिता बिज़नसमेन है और माँ हाउसवाइफ है.

ये कहानी आज से 5 साल पहले की है, जब मैंने 12वीं क्लास के लिए कोचिंग ज्वाइन किया था. तब हमारे क्लास में एक बहुत ही खुबसूरत लड़की ने कोचिंग ज्वाइन किया. उसका नाम पूजा था (उम्र 18 साल). पूजा का फिगर एकदम मस्त था. स्किन एक दम गोरी और आँखों पर चश्मा लगा हुआ था.

मुझे चश्मिश लड़की के साथ सेक्स करने की फेंटेसी थी. उसके मम्मे देखकर उसे जोर से दबाने को जी करता था. और उसके नाक में नथनी लगी हुई थी जो उसकी खूबसूरती और ज्यादा बढ़ा रही थी.

उसके लम्बे थिक बाल थे, जो कमर तक आते थे और बालो में बड़ा रिबन बांधती थी. उसके बालो को पकड़कर उसके मुह में लंड डालकर अन्दर बाहर करने का मन करता था.

अब कहानी पे आटा हूँ. मैं अपनी कोचिंग का इंटेलीजेंट लड़का था. और लड़कियों के पीछे वाली सीट पर है बैठता था. कोचिंग में सभी लडको को मेरे क्रश के बारे में पता था. वो जैसे है कोई हरकत करती सारे लड़के मेरी तरफ स्माइल करते देखने लग जाते. मैं पूजा के ठीक पीछे ही बैठा करता था और उसके बालो के साथ खेलता था.

वो कुछ रियेक्ट नहीं कर रही थी क्योंकि उसे भी यह सब पसंद था. मैं उसके बालो में उंगलियाँ डाल के सहलाता और कभी उसके बाल खींचता था. वो नाराज होकर फिर राजी हो जाती थी. उसके बालो की पोनी में पेन डाल देता और फोटो खिंच के लडको के साथ शेयर करता था.

कुछ दिन ऐसे ही चलता रहा और हम क्लास में लवर की तरह फेमस हो गए. बहुत से लोग हमारे अफेयर को देखकर जलने लग जाते. हम एक दुसरे के साथ स्मूच करते. फोरप्ले करते लेकिन सेक्स करने के लिए वो मुझे मना कर रही थी. इसलिए मेने पूजा से बात करना बंद कर दिया.

उसने शाम को कॉल किया लेकिन मेने कॉल रिसीव नहीं क्या. अगले दिन स्कूल में जब हम मिले तब उसने मुझसे माफ़ी मांगी और सेक्स के लिए राजी हो गयी.

मैंने उसे मेरी बाहों में कसकर भर लिया और किस किया और उसके बालो को सहलाया ताकि उसे मेरे सेक्स की भूख के बारे में पता चल सके. अब मैं पूजा की चुदाई करने के लिए तड़प रहा था. हम चुदाई करने के लिए प्लान बनाने लगे.

अगले दिन हमने स्कूल लेट जाने का प्लान बनाया ताकि में पूजा की चुदाई कर सकू. स्कूल में सबसे ऊपर के फ्लोर पर 2 क्लास रूम थे जो खाली पड़े थे और वहां कोई आता जाता भी नहीं था. में पूजा को ऊपर के कमरे में ले गया और उसे चूमने लगा.

वो स्कूल ड्रेस में बहुत गजब लग रही थी. उसने 2 चोटियाँ बनाई हुई थी जो उसके बूब्स पर आगे की और राखी थी. वो बार बार अपनी दोनों चोटियों से खेल रही थी. वो मुझे बुरी तरह से बहकने लगी थी.

मेने पूजा को 10 मिनट उसके शरीर के सभी अंगो से प्यार किया. उसके गले को चूमा, कान पर काटा और उसके होंठ पर होंठ रख कर सारा रस पी लिया. अब मैंने देर ना करते हुए पूजा को पीछे से कस के पकड़ लिया और उसके बूब्स दबाने लगा.

मैं उसकी स्कूल ड्रेस के ऊपर से ही उसके बूब्स दबा रहा था. उसके बूब्स टाइट हो चुके थे. फिर मेने उसे मेरी पेंट खोलने को कहा. उसने मेरी पेंट का बटन खोला और एक झटके में लंड को बाहर निकाला.

मेने उसे अपने लंड के पास बैठाया और उसके मुह में लंड दाल दिया. वो मेरे लंड को आइस-क्रीम की तरह चूस रही थी. मैं उसकी दोनों चोटियों को पकड़कर लंड उसके मुह में धकेल रहा था.

पूजा ने 5 मिनट तक मेरा लंड चूसा. अब मेरा पानी निकलने वाला था मेने उसके बालो पे अपना सारा पानी डाल दिया और मेरा लंड उसके बाल पर रगड़ने लगा.

अब मेने उसे क्लास के टेबल पर लिटाया. सबसे पहले मेने उसकी यूनिफार्म उतार दी और अब वो सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी. उसने सफ़ेद कलर की ब्रा पहनी हुई थी.

मेने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया. अब उसके बूब्स पुरे नंगे हो चुके थे. मैं उसके एक बूब्स को चूसने लगा और दुसरे को हाथो से मसल रहा था.

कुछ देर तक दूध पिने के बाद मैंने उसकी ब्लैक कलर की पेंटी को फाद दिया. फिर उसके पैर फैला दिए. उसकी चूत पर हलके से बाल थे.

मेने पूजा की चूत के अन्दर एक उंगली डाली तो उसे थोडा दर्द हुआ, में उंगली को अन्दर बाहर कर रहा था. वो दर्द में भी मजे ले रही थी और गरम हो रही थी और सिसकारियां भर रही थी, फिर मेने उसकी चूत के अन्दर मुह से उसके दाने को सहलाया.

वो जोर जोर से आहें भरने लगी और बोल रही थी के जानू प्लीज जल्दी से मुझे चोद दो. में उसके चूत के दाने को होठों से चूम रहा था और उसे दांतों से काट रहा था. वो अब झड़ने वाली थी. और उसने पूरा पानी मेरे मुह में निकाल दिया.

मेने वो पानी पिया. उसकी खुशबु बहुत ही मादक थी और मुझे पागल कर रही थी. फिर मैंने अपना 6 इंच का लंड निकाला और कंडोम उपयोग किया, और लंड उसके चूत पर रखा और लंड के टोपे को चूत में धक्का दिया. उसकी चूत गीली थी इसलिए लंड आसानी से आधा अन्दर चला गया. वो लंड के अन्दर जाते ही उछल पड़ी और मुझे कसके गले लगा लिया.

मेने कहा जानू, कोई बात नहीं शुरुआत में ऐसा होता है. फिर मैं थोड़ी देर रुका और लंड बाहर निकाल कर एक जोर का धक्का लगाया. अब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में जा चूका था. मेने लंड अन्दर बाहर करना शुरू किया. और एक हाथ से उसके बूब्स को मसल रहा था. अब पूजा को भी मजा आ रहा था. और वो चुदाई को एन्जॉय कर रही थी.

10 मिनट की हार्ड चुदाई के बाद पूजा एक बार फिर झड गयी. और मेरा पूरा लंड उसके झड़ने से चिपचिपा हो गया. मेने फिर भी लंड अन्दर बाहर करना चालू रखा. क्योंकि में अभी तक संतुष्ट नहीं हुआ था.

कुछ ही देर में मैं भी झड गया. तब मेने कंडोम निकाल दिया. और मेरा लंड उसके मुह में रख दिया. पूजा मेरे लंड को मजे से चूस रही थी.

मैं उसके सर को पकड़ कर लंड पर दबाने लगा. और उसका मुह अन्दर बाहर करने लगा. मुझे इतना मजा पहले कभी नहीं आया था. फिर मेने उसे डॉगी स्टाइल में खड़ा किया और उसके मम्मे दबाये और मेरा लंड पीछे से उसकी चूत के अन्दर बाहर करने लगा.

मेरा लंड एक दम टाइट हो गया था. मैं पूजा की दोनों चोटियों को पकड़कर पीछे से लंड घुसा रहा था. पूजा की गांड बहुत ही बड़ी लग रही थी. मैं बार बार उस पर थप्पड़ लगा रहा था. पूजा की गांड थप्पड़ से लाल हो चुकी थी.

अब उसके दो बार झड़ने के बाद मेरा पूजा की गांड मारने का मन किया. मेने बिना कोई वार्निंग दिए मेरा लंड उसकी गांड में घुसा दिया. वो दर्द से कराह उठी. उसकी आँख से आंसू निकाल रहे थे.

उसने मुझे दूर करने की कोशिश की लेकिन मैं नहीं मानने वाला था. मेने अपना लंड गांड के अन्दर ही डाले रखा और पूजा के गार्डन पर चूमने लगा और बूब्स मसलने लगा ताकि उसे रिलैक्स महसूस हो सके. में उसके बूब्स को जोर जोर से मसल रहा था.

जब पूजा का दर्द कम हो गया, मेने लंड बहार निकाल कर जोर का धक्का लगाया और अपना पूरा लंड अन्दर घुसा दिया.

अब पूजा से रहा नहीं गया. वो मुझे लंड बाहर निकालने को कहने लगी पर मैं लंड को धीरे धीरे अन्दर बाहर करता रहा. उसकी गांड फट चुकी थी. मैंने लंड को अन्दर बाहर करना चालु रखा. और इस बार मेने अपना वीर्य पूजा की गांड में है छोड़ दिया.

फिर हम एक दुसरे से अलग हुए. फिर हमने अपने कपडे पहने और अपनी क्लास में जाने के लिए रेडी हो गए. लेकिन पूजा की पेंटी मेने फाद दी थी. उसकी गांड पर सुजन आ गयी थी. वो बराबर चल नहीं पा रही थी, मैंने पूजा को किस किया और उसे आय लव यू कहा, पूजा ने भी मुझे होठों पर किस किया और गले लगा लिया.

हम दोनों की चुदाई का चक्कर 2 साल तक चला. बाद में उसकी शादी फिक्स होने की वजह से उसे स्टडी छोडनी पड़ी. और मेने कॉलेज ज्वाइन कर लिया. कॉलेज में मेरी दोस्ती नूतन से हुई. जिसके साथ मेने खूब मजे किये.

school me chudai, school sex kahani, skool me chodai, school antarvasna in hindi, hindi likhai me kahani, hindi font writing sex kahani

Rate This Story