Friday, 14 October 2016

भाई और मामा के लंड का चोकलेटी टेस्ट

choco lund
हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रेहान है और में दिल्ली के जामिया नगर में अपनी फेमिली के साथ रहता हूँ, मेरी फेमिली में मेरे मम्मी पापा के अलावा मेरे सात बड़े भाई है, जिसमें सबसे बड़े भाई की उम्र 40 साल है। में सबसे ज़्यादा प्यार उनसे करता हूँ और डरता भी उन्ही से हूँ, सारा काम वो ही संभालते है, वो 6 फुट लंबे और काफ़ी हट्टे कट्टे है, वो हल्की शेव और मूँछे रखते है, में सबसे छोटा हूँ और सबसे ज़्यादा स्मार्ट हूँ और सबसे ज़्यादा गोरा हूँ।

ये बात तब की है जब में 19 साल का था, उस वक़्त मुझे ज़्यादा कुछ सेक्स के बारे में नहीं पता था। में टी.वी. की वजह से उनके रूम में ही सोता था और चुपके से रज़ाई से झाँककर फिल्म देखता था, क्योंकि घर में एक ही टी.वी. था और वो भी उनके रूम में था। उस रात मैंने 9 बजे ही खाना खा लिया। मैंने अपनी एक कॉटन की शर्ट पहनी और बिस्तर लगाकर लेट गया, मेरे भाई की एक आदत है, जब वो ड्रिंक करके आते है तो वो खाना नहीं खाते थे और हम सबके लिए चॉकलेट ज़रूर लाते थे। अचानक डोर बेल बजी और में समझ गया कि भाई आ गये है। फिर मैंने जल्दी से रज़ाई ओढ़ ली और सोने का नाटक करने लगा। फिर पापा ने गेट खोला और बोले कि तू आज पीकर आया है? तो भाई कुछ ना बोले और सीधे कमरे में आ गये। उनके साथ मेरे मामा भी थे, मेरे मामा 42 साल के है और एकदम काले है, काफ़ी भारी है, उनकी पैंट से ही उनके लंड का साईज़ पता लगता है, उनका लंड कम से कम 8 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा होगा।

फिर अंदर आते ही उन्होंने लाईट चालू की और अंदर से गेट बंद कर लिया और मुझे सोता देख मुस्कुराए, उनकी आँखे एकदम लाल थी। फिर उन्होंने अपनी पेंट उतारी, उनकी पीठ मेरी तरफ थी, में रज़ाई से चुपके से देख रहा था, उनकी जांघे काफ़ी भारी थी। अब पेंट को एक तरफ रखा और अब वो सिर्फ़ अपनी सफ़ेद कलर की चड्डी में थे और टी.वी. का रिमोट लेकर जब वो मुड़े तो में उन्हें देखकर हैरान रह गया, क्योंकि मैंने पहली बार उन्हें इस तरह देखा था। उनका लंड एकदम सीधा खड़ा था, वो करीब 7 इंच लम्बा और काफ़ी मोटा था। तभी मेरे मामा भी लूँगी पहनकर आ गये, वो बहुत ही सेक्सी लग रहे थे और वो चैनल लगाकर टीवी देखने लगे। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर अचानक से वो पानी की बोतल उठाने के लिए मेरी तरफ मुड़े तो उनका खड़ा हुआ लंड सीधे मेरे होंठो पर लगा, जो कि गीला सा हो चुका था। ये देखकर मामा की हँसी निकल गयी और वो अपना काला और काफ़ी मोटा लंड बाहर निकालकर हिलाने लगे। ये देखकर मेरा लंड भी खड़ा हो गया, ये उन्होंने चुपके से देख लिया था और फिर भाई ने मुझे दूसरी तरफ पलटकर लेटा दिया और मुझसे चिपक कर लेट गये और आगे से मामा अपने लंड से मेरे लंड को दबाने लगे। अब मुझे उनकी छाती के घने बाल महसूस हो रहे थे और उनका लंड मेरी शर्ट के ऊपर से ही गांड में घुसा जा रहा था।

फिर उन्होंने मुझे सीधा करके लेटा दिया और खुद भी वैसे ही लेट गये और मेरा हाथ पकड़कर अपनी चड्डी में डाल दिया और अपना गर्म और मोटा लंड थमा दिया, उनकी झांटे काफ़ी घनी और लंबी थी। अब में सातवें आसमान पर था, अब वो मेरी उंगली अपने लंड के छेद पर रगड़ने लगे और अब काफ़ी वीर्य मेरी उंगली पर लग गया था और फिर वही उंगली मेरे मुँह में दे दी, उनके वीर्य का काफ़ी नमकीन सा टेस्ट था। फिर में सोने का नाटक करता रहा, अब वो मेरे कान में धीरे से बोले कि बेटा अपनी चॉकलेट नहीं खाओगे, मुझे पता है तुम जाग रहे हो? तो में चुप रहा और फिर वो चॉकलेट मेरे होंठ के पास लाए तो चॉकलेट के टेस्ट की वजह से मैंने जैसे ही मुँह खोला तो उन्होंने पूरी की पूरी चॉकलेट मेरे मुँह में दे दी।

अब मेरा मुँह पूरा भर गया था, क्योंकि वो मेरे भाई का काफ़ी मोटा लंड था और वो भी चॉकलेट से ढका हुआ था। अब में उसे मज़े लेकर चूसने लगा, ये देखकर मामा भी जोश में आ गये। फिर भाई ने उनकी तरफ आँख मारी और मामा एक कप लाए, उसमें ऊपर तक शहद भरा था। फिर उन्होंने अपना लंड उसमें डूबो दिया और फिर शहद में डूबा हुआ लंड मेरे मुँह के पास लाए, अब मेरा मुँह और नहीं घुस पा रहा था तो वो अपना लंड मेरे गालों पर रगड़ने लगे। फिर कुछ देर तक मुझे चाटने के बाद वो फिर से अपने लंड को मेरे मुँह में डालने लगे और ज़रा सी जगह मिलते ही उन्होंने ज़ोर का झटका मारा तो उनका 8 इंच का पूरा मीठा लंड अब मेरे मुँह में था। फिर वो कुछ देर तक ऐसे ही रहे। फिर वो दोनों ही झटके लगाने लगे, अब मेरे मुँह में शहद और चॉकलेट दोनों का टेस्ट आ रहा था। फिर अचानक से उन दोनों ने अपनी स्पीड बढ़ा दी और मेरा मुँह भर दिया और मुझे वो सारा मीठा चॉकलेटी वीर्य पीना पड़ा। फिर वो दोनों अपने लंड साफ करवा कर एक तरफ सो गये

desi sex kahani, lund choosa bhai ka, maama ne choda, family sex kahani, desi sexy story, desi antarvasna kahani, Indian antarvasna story, hindi kahani

Rate This Story