Wednesday, 29 June 2016

प्रीत की माँ की जबरदस्त चुदाई

हैल्लो फ्रेंड्स, मेरा नाम अर्जुन है और में जालंधर से हूँ. मेरी उम्र 22 साल है और में इंजीनियरिंग की पढाई कर रहा हूँ. ये कहानी एक आंटी की है जो कि मेरे एक दोस्त की मम्मी की है. ये घटना आज से 8 महीने पहले की है और अभी तक चल रही है. में बहुत सालों से इस साईट की स्टोरी पढ़ रहा हूँ, लेकिन कभी कहानी लिखने की सोची नहीं, अब आज सोचा कि में भी अपना अनुभव आप लोगों के साथ शेयर करूँ. ये मेरी पहली स्टोरी है.

दोस्तों मेरी क्लास की एक फ्रेंड है प्रीत, वो मेरे साथ ही पढ़ती है. वैसे तो प्रीत काफ़ी अच्छी दिखती है, लेकिन मैंने कभी उसे बुरी नज़र से नहीं देखा था. मैंने उसे हमेशा से दोस्त की नजर से ही देखा था. हम काफी अच्छे फ्रेंड्स थे तो में हमेशा उसके घर आता जाता था. वैसे सच कहूँ तो में पहले टाईम से उसकी माँ को देखकर आकर्षित हो गया था, उसकी उम्र लगभग 40 साल की है, लेकिन वो लगती नहीं है, और फिगर तो प्रीत से भी मस्त है. वैसे प्रीत थोड़ी मोटी है, लेकिन उसकी माँ का फिगर 36-32-38 है. वो सेक्स के लिए एकदम मस्त आईटम है. अब में उसकी माँ को पटाने के लिए बस तरीका और चान्स ढूँढने लगा था. अब में ज़रूरत से ज्यादा प्रीत से मिलने के बहाने उसके घर जाने लगा, लेकिन उसे क्या पता था? कि में किस लिए जाता था. ऐसे ही टाईम निकलता गया और मुझसे कुछ हो भी नहीं रहा था सिवाए रोज मुठ मारने के. में रोज उसकी माँ को देखकर मुठ मारकर सो जाता था.

अब में सिम्मी आंटी मतलब प्रीत की माँ से कुछ ज्यादा ही बात करने लगा और में बिना बात के उनकी तारीफ करता था तो आंटी शरमा जाती थी और बोलती थी कि अब बस कर तुझे कुछ ज्यादा ही अच्छा लगता है. अब ऐसे ही बात करते-करते में आंटी से काफ़ी फ्रेंकली बात करने लगा. अब आंटी पूछती थी कि कॉलेज में मेरे कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं? तो में कहता नहीं है, तो आंटी कहती थी कि क्यों?

में बोला कि आंटी मुझे अपनी उम्र की गर्ल्स पसंद नहीं आती है, मुझे लेडीस ज्यादा अच्छी लगती है. आंटी सुनकर एकदम चौंक गयी और वो कहने लगी कि तूने कैसे कैसे शौक पाल रखे है? फिर मैंने कहा अब ऐसा ही है में क्या करूँ? फिर आंटी ने स्माईल किया और बोली कि लेडीस में तुझे देखने में ऐसा क्या मिलता है? फिर मैंने बात का फायदा उठाते हुए कहा कि खुद से ही पूछ लो तो आंटी बोली तुम बताओ ना प्लीज.

फिर मैंने कहा कि आंटी कुछ चीज़े मुझे उनकी काफ़ी आकर्षित करती है जैसे कि तो आंटी ने कहा कि बोलो जैसे कि? तो मैंने कहा कि रहने दो अब आपके सामने कैसे कहूँ? फिर आंटी ने कहा कि शरमाओ मत अब बता भी दो. तो मैंने कहा कि मुझे उनके बूब्स और भारी कूल्हे काफ़ी आकर्षित करते है और फिर आंटी हंसकर बोली कि चल बदमाश कुछ भी बोलता है. में समझ गया कि अब दिल्ली दूर नहीं है, फिर में घर चला गया और फिर में दो दिन के बाद प्रीत के घर गया तो प्रीत घर पर नहीं थी. वैसे मुझे पता था, लेकिन में जानबूझ कर गया था कि क्या पता चान्स मिल जाए? जैसे ही में उनके घर में अन्दर गया तो में प्रीत को आवाज़ लगाने लगा, लेकिन प्रीत होगी तो आयेगी ना. अब मुझे बाथरूम से नल की आवाज़ सुनाई देने लगी तो में समझ गया कि बाथरूम में आंटी है तो में सीधा अन्दर गया तो आंटी ने मुझे देखा और उनका मुँह खुला का खुला रह गया, क्योंकि वो पूरी नंगी थी और बाथटब में थी.

फिर मैंने कहा सॉरी आंटी मुझे लगा कि किसी ने बाथरूम का नल खोलकर रख दिया है और फिर में आंटी को पूरा ऊपर से नीचे तक देखता ही रह गया. अब मेरा लंड खड़ा हो गया, मुझे ऐसा लगा कि मेरा लंड पेंट फाड़कर सीधा उसकी चूत में घुस जायेगा, उसके मोटे-मोटे बूब्स उफफफफफ्फ़. फिर में बाहर आकर बैठ गया और फिर आंटी एक सिंपल सा गाउन पहनकर बाहर निकली और मुझसे कहने लगी कि तुमने जो भी देखा प्लीज वो किसी को भी मत बताना.

मैंने कहा इट्स ओके आंटी, लेकिन एक बात कहूँ तो आंटी बोली कि हाँ कहो तो मैंने कहा कि आंटी आप बहुत खूबसूरत हो खास कर बिना कपड़ो में, तो आंटी शरमा गयी और सिर नीचे झुका लिया. फिर मैंने सोचा यही मौका है आज तो इसे छोडूंगा नहीं, फिर में आंटी के पास गया और उसके चेहरे को ऊपर करके उसके होठों पर किस करने लगा, लेकिन 2 सेकण्ड में ही आंटी ने मुझे झटका देकर दूर कर दिया और बोली कि तुम ये क्या कर रहे हो? तो मैंने कुछ नहीं कहा. फिर मैंने उसे दीवार से चिपका कर उसे स्मूच करता रहा. अब उसके गले की आवाज़ उसके गले तक ही रह गयी थी और अब वो भी मेरा साथ देने लगी थी.

अब वो मेरे बालों को ज़ोर से पकड़कर किस करने लगी. अब मुझे भी बहुत मज़ा आने लगा था और में उसे गोद में उठाकर प्रीत के रूम में लेकर गया और उसका गाउन उतार दिया और खुद के भी सारे कपड़े उतार दिए और उसे अपनी गोद में बैठाकर उसे पूरी तरह से चूमने लगा. अब आंटी मौन करने लगी आआहह्ह्ह्हह्ह उह्ह्हह्ह्ह्ह इस्स्स्सस फिर मैंने उसके बूब्स को अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगा. क्या बताऊं यार? मुझे ऐसा लगा कि जैसे मैंने आसमान छू लिया हो.

फिर में उसके निपल को अपनी जीभ से चाटने लगा, वो सस्स्शह करती जा रही थी और अब वो अपने हाथों से मेरे सिर को अपने बूब्स पर दबाने लगी. अब मैंने पूरे बूब्स को लगभग 20 मिनट तक चूस-चूस कर पूरे लाल कर दिए और फिर में उसकी नाभि को चाटने लगा, आअहह क्या मज़ा आ रहा था? उस समय मुझे ज़न्नत जैसा महसूस हो रहा था.

फिर मैंने नीचे आकर उसकी चूत पर अपना मुँह रख दिया और जीभ से चूत को चाटने लगा. अब वो पागल सी हो गयी थी और उसका बदन कांपने लगा था. अब मैंने अपनी जीभ और अंदर डाल दी तो वो मचलने लगी और में पूरे ज़ोर-ज़ोर से चूत जो चूस रहा था. अब उसे भी बहुत मज़ा आ रहा था और में लगातार उसकी चूत को चूसे जा रहा था. आचनक से उसने अपने दोनों पैरो से मुझे जकड़ लिया और मेरा मुँह चूत पर दबा दिया. फिर उसने जोरदार पानी छोड़ दिया और मेरा पूरा मुँह उसके पानी से भर गया और वो पूरी ढीली हो गयी. फिर मैंने उसको नीचे बैठाकर मेरा लंड उसके मुँह में डाल दिया. अब वो धीरे-धीरे मेरा लंड चूस रही थी. फिर मैंने आचनक से उसके सिर को दबाकर एक ज़ोर का झटका लगाया तो मेरा पूरा का पूरा लंड उसके गले तक चला गयाऔर वो चिल्ला भी नहीं पाई.

अब उसकी आँखों से पानी आने लगा था. फिर वो नॉर्मल हो गयी और में उसके बालों को पीछे से पकड़कर उसके मुँह को चोदने लगा. अब वो मेरा पूरा लंड अपने मुँह में लेने लगी थी. फिर करीब 15 मिनट में मैंने उसके मुँह में अपना पानी निकाल दिया. फिर मैंने उसे बेड पर लेटाकर उसकी दोनों टांगो को फैलाकर उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया. जैसे ही कुछ 4 इंच तक लंड चूत में गया तो वो आह्ह्ह्ह करने लगी. फिर मैंने कुछ देर के बाद पूरे झटके से 9 इंच अंदर डाल दिया तो वो दर्द से चिल्लाने लगी और फिर वो 2 मिनट में नॉर्मल हो गयी और अपनी गांड उठाकर चुदवाने लगी. में उसके बूब्स को दबाकर उसे चोदता जा रहा थाऔर वो आवाज़े निकाल रही थी.

अब हम दोनों पसीने से पूरे भीग गये थे और हमें ए.सी में भी पसीना आ रहा था. उसे 5 मिनट तक एक ही पोज़िशन में चोदने के बाद में नीचे लेट गया और उसको अपने ऊपर बैठाकर उसे चोदने लगा. अब वो भी अपनी गांड हिलाकर मेरा साथ देने लगी. में धीरे-धीरे उसके बूब्स भी चूस रहा था और अब मैंने अपनी गति तेज कर दी थी और उसे भी मज़ा आने लगा था. फिर 15 मिनट की चुदाई के बाद उसने कहा कि मेरा निकलने वाला है तो मैंने कहा कि मेरा भी निकलने वाला है. फिर मैंने उसे नीचे लेटाया और उसके मुँह पर अपना पानी निकाल दिया. फिर कुछ देर तक एक दूसरे की बाहों में लेटने के बाद हमने साथ में बाथ लिया. अब जब भी में उसके घर जाता हूँ तो मौका देखकर उसे चोद देता हूँ.

adult stories in hindi, English Sex Story, Hindi, hindi adult stories, hindi adult story, Hindi Sex Stories, Hindi Sex Story, Kamukta, latest hindi adult story, latest sex story, meri chudai, sex, sexstory, stories, story, कामोत्तेजित, देवर-भाभी, रिश्तों में चुदाई, हिन्दी सेक्स कहानियाँ

Rate This Story