Friday, 20 November 2015

क्लासमेट की चूत पेली

हेलो, डिस इज कुनाल फ्रॉम ओड़िसा. सभी दोस्तों को हाई. मैं एक रेगुलर रीडर हु, इस वेबसाइट का. ये एक सच्ची घटना है, को मैं आपके साथ शेयर करना चाहता हु. मैं भुनेश्वर में रहता हु. ये कहानी कुछ २ महीने पहले की है. मेरी क्लासमेट रीटा की, जिसकी शादी ३ पहले हुई थी. उसका एक साल का बच्चा भी है. फिलहाल, मैं अनमैरिड हु. अचानक मुझे मेरे फ्रेंड राकेश का फ़ोन आया, कि उसकी शादी तय हो गयी है. राकेश और रीटा के परिवार में आपस में कुछ रिलेशन था, तो राकेश की शादी में रीटा अपने पति के साथ आई थी. मुझे देखकर रीटा खुश हो गयी और हाथ मिलायी. मैं थक गया था, जरनी से तो मैं सोने चला गया. मेरे पास रीटा के पति सोने आये और हम लोग बात करते- करते हो गये. शादी २ दिन की थी. अगले दिन, रीटा के पति राकेश के साथ मार्किट गये और मुझे घर के काम पर छोड़ दिया. रीटा लेट में आई और बाकि लडकिया पार्लर जाकर अपना काम ख़तम करवा चुकी थी.

रीता ने मुझसे कहा, कि मैं उसे पार्लर ले चलू. मैंने उसे मना नहीं किया और उसके साथ बाइक पर चला गया. वो मेरे कमर को कसकर पकड़कर बैठी हुई थी. उसके बूब्स भी मुझे टच हो रहे थे. मेरा लौड़ा तो खड़ा होने लगा था. पार्लर में थोड़ी भीड़ थी, तो हम वेट करने लगे. मैं उसे टुकुर- टुकुर देख रहा था. तो वो बोली – ऐसे क्या देख रहे हो? मैंने उसे कहा – तुम बहुत सुंदर दिख रही हो. तो वो हंसने लगी और शी सेड – कॉलेज टाइम पर, तो तुमने मुझ पर कभी ध्यान हो नहीं दिया. कितना लाइन मैंने तुम पर मारी, कुनाल. वो हंस पड़ी. मैं बोला – चल झूठी. तो उसने मेरा हाथ पकड़कर कहा, तुम्हारी कसम कुनाल. मेरी तो बड़ी में करंट लग गया. मन ही मन, खुद को गाली दी. ऐसा माल क्यों छोड़ दिया. मैं उसे सॉरी कहा और बोला – अगर मुझे पता होता, तो मैं तुमसे ही शादी करता. वो मेरे हाथ को पकडे हुए थी. पार्लर में अभी भी २ आवर्स वेट करना था, मैंने बोला – चलो, किसी होटल में चलते है (मैंने खाना खाने के लिए होटल बोला था). वो बोली – रूम में क्या? मैं तो जैसे शौक हो गया, लेकिन मैंने हंसकर बोला – हाँ.

वो शर्म से बोली – भुनेश्वर में रूम रूम कौन देगा. मैंने कहा – यहाँ मेरा एक दोस्त का होटल है. जो किराए पर रूम देता है. मैंने फ़ोन करके रूम बुक किया. रीटा को लेकर होटल पहुच गया. रास्ते में मेडिकल स्टोर से कंडोम ले लिया.रूम में जाकर डोर क्लोज कर दिया और ऐसी ओन कर दिया. मैंने रीटा को बाहों में ले लिया और बिस्तर में गिर गया. रीटा – आई लव यू, कुनाल. मैं – आई लव यू टू. रीटा मुझे किस करने लगी और मैनें भी किस करना शुरू कर दिया. हल्का से उसकी साड़ी उतार दी और अब वो सिर्फ ब्लाउज और पेटीकोट में थी. उसकी नाभि को किस किया और फिर मैंने उसकी ब्लाउज और पेटीकोट उतार दिया. उसने रेड ब्रा और पिंक पेंटी पहनी हुई थी. बूब्स का साइज़ ३४.ब्रा को मैंने उतार दिया. मैंने उसके बूब्स को चूस- चूस कर लाल कर दिया. रीटा एक्साइट हो गयी और मेरे बालो को खीचने लगी. मैंने उसकी पेंटी को उतारा. उसकी पिंक चूत पर एक भी बाल नहीं थे. उसकी पूरी चूत गीली हो चुकी थी. मैंने उसकी चूत पर टूट पड़ा और चूत को चाटने लगा.

वो अहहः अहहः आआआआ ऊऊऊऊईईईईइमा अहहाहा ओऍमजी.. ओऍमजी..ओऍमजी…. ओऍमजी कर रही थी. मुझे बहुत अच्छा लगा रहा था. ऐसी चल रहा था. फिर भी हम दोनों की बॉडी से पसीने निकल रहे थे. इतने में वो अपनी चूत को जोर- जोर से मेरे मुह पर रगड़ रही थी और फिर उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. वो ५ मिनट लेट गयी और बोली – मेरे पति चोदता तो है जबरदस्त. बट कभी चूत नहीं चाटता. फिर उसने मुझे नंगा करके मेरा लंड को मुह में ले लिया और चूसने लगी. दोस्तों, क्या फीलिंग थी… अहहाहः आआआआआ.. मैं अहहहः आआआआआआआआआअ कामुक आवाज़े कर रहा था. लंड एकदम पत्थर सा हो गया था. फिर सीमा ने कहा … टाइम ज्यादा नहीं है, कुनाल. तुम्हारा ये गोरा- गोरा लंड मेरी चूत में डालो. मैंने फिरसे २ मिनट रीटा की चूत चाटी और अपना लंड लेके उसकी चूत में रगडा. फिर, मैंने अपने लंड पर डॉटेड कंडोम लगाया और अपने लंड का टोपा रीटा की चूत में पेल दिया. लंड हल्का सा अन्दर गया और फिर एक और धक्के से मेरा पूरा लंड रीटा की चूत में पूरा अन्दर चला गया. मुझे लगा, मेरा लंड किसी आग की भट्टी में घुस गया हो. फिर, मैं जोर- जोर से चोदने लगा.

मैं रुक- रुक कर उसकी चुदाई कर रहा था. फिर, रीटा ने मुझे लिटाया और मेरे ऊपर बैठ गयी और अपने हाथ से मेरे लंड को अपनी चूत पर सेट करके मेरे लंड को अपनी चूत में डाल दिया. मुझसे चुद रही थी. अहहहः ओहोहोहोहोह उईईईईईकी आवाज़ आ रही थी. फिर मैंने उसे अपने लेप पर बैठा लिया और उसको चोदने लगा. अब मैं डिस्चार्ज हो गया. अभी एक घंटा हुआ था और एक घंटा वेट करना था. हम दोनों बेड पर लेट गये और बात करने लगे. रीटा बोली – मेरा पति, मुझे सिर्फ रात में ही चोदता है. नो ब्रेस्ट प्रेस्सिंग एंड नो पुसी लिकिंग. मेरा तो निकलता ही नहीं है. खुद का लौड़ा शांत हो गया, तो सो जाता है. मैं प्यासी ही रह जाती हु. मैंने बोला – डोंट वोर्री डार्लिंग. जब भी चुदाई का मन करे, तो आ जाना भुनेश्वर. मैं तुम्हे जमकर चोदुंगा और हम दोनों हंस पड़े. रीटा ने बोला – कुछ अलग अंदाज़ में चोदो ना. एक ही स्टाइल में चुदकर बोर हो गयी हु. मैंने बोला – पहले खाना खाते है और फिर चोदम- चुदाई. हमने खाना आर्डर किया. हमने खाना खाया और ५ मिनट वेट किया और फिर रीटा ने लंड चुसना शुरू किया.

मैंने ६९ की पोजीशन बना ली. मैंने उसकी चूत में टंग घुसाना शुरू किया और चूसने लगा. वो रंडी मेरे लंड को एक प्रोफेशनल रंडी की तरह चूस रही थी. ५ मिनट हम ६९ की पोज में चूसते रहे और फिर हम अलग हुए. उसकी ब्रैस्ट के बीच में अपना लंड को रगडा. क्या सॉफ्ट- सॉफ्ट दूध थे, मेरे लंड से भी पानी निकल रहा था. वो चूस के साफ़ कर दे रही थी. फिर, मैंने उसको डौगी स्टाइल में किया और पीछे से उसकी चूत में लंड डालने लगा और चोदने लगा. बीच- बीच में मैं उसकी चूत के रस को साफ़ कर देता. जिससे लंड को चूत में टाइट फीलिंग आये. १५ मिनट पेलने के बाद रीटा की आँखों में आंसू आने लगे. बेचारी को खूब दर्द हो रहा था. मैंने उसको बेड पर लिटा दिया और एक कंडोम लगायी और जोर- जोर से चोदने लगा. रीटा अब तक २ बार झड़ चुकी थी. अब वो मुझे लंड बाहर निकालने को कह रही थी, उसे डर था कि मैं उसके अन्दर ना छुट जाऊ. मैंने अपना लंड निकालना और एकदम कंडोम को उतार दिया. मैंने उसके मुह पर मुठ मार दी. मेरा सारा गरम- गरम माल उसके मुह पर गिर गया. फिर हमने अपने कपडे पहने और पार्लर की ओर चल पड़े.

baap beti ki chudai ki kahani, behan ki chudai, bhabi ki chudai, bhabi ki chudai in Hindi and Urdu language, bhai behan ki chudai ki kahani, chudai ki kahani, chut aur lund ki story, maa bete ki chut ki story, maa ko choda, nangi behan ki kahani, nangi kahani, nangi maa ki kahani

Rate This Story