Tuesday, 28 April 2015

एक रात आंटी के साथ

मे एक इंजिनियर हू मेरा नाम विजय (नाम चेंज्ड) ये बात तब की है जब मे बंगलोरे मे था जॉब कराता था मेरा ऑफीस और घर थोड़ा पास मे ही था तो मुझे कोई परेशानी नही होती थी ट्रॅवाले करने मे और बहुत ही टाइम सवे होता था मे केटिब 6:30 पीयेम तक मेरे रूम पे पहुच जाता था. आपार्टमेंट मे मैने ग्राउंड फ्लोर पे एक 2भक ब्लॉक रेंट पे लिया था. वो पूरा नया ही बिल्डिंग था जिसमे मैं ही पहला रेसिडेंट था.

वैसे ही थोड़े दिन निकलते एक कपल आया मेरे ही बिल्डिंग के 3र्ड फ्लोर पे जो की राजस्थानी था वो दोनो न्यूली वेड्डेड कपल थे दोनो मेरे स्टेर्स तो मेरे ब्लॉक के बगल मे ही था तो वो तॉज़ मेरे ब्लॉक से ही गुज़राते थे तो वैसे ही हम लोगोंकी बात होने लगी जब की संडेस पे छुट्टी का टाइम रहता था तो वो दोनो मेरे घर पे आते थे टीवी देखने के लिए टाइम पास करने के लिए ऐसा ही चलता रहा.

थोड़े ही दीनो मे फ्रेंडशिप थोड़ी अच्छी हो गयी तो राजेश ने एक दिन मुझसे कहा “अर्रे विजय तुम तो दिन भर ऑफीस मे रहते हो मे भी शॉप मे रहता हू मेरी वाइफ (निकिता) रोज़ घर मे अकेली रहती है पूरा दिन अकेली बोर होती है” तो मैने बोला “हा तो मैं क्या कर सकता हू ???” तो राजेश ने बोला “कुछ नही अगर तुम बुरा नही मानोगे तो एक रिकवेस्ट है” मैने बोला “हा बताओ क्या बात है” तो उसने पूछा “तुम्हारी घर की चाबी अगर तुम मेरी वाइफ को दे सकते हो तो अच्छा रहेगा जब भी उसे बोर होगा तो वो आके टीवी देखते बैठ सकती है तुम्हारे घर मे” देन मैने बोला “ओक नो प्राब्लम बुत थोड़ा ध्यान से बॅचलर का रूम है चीज़े इधर उधर पढ़ी रहती है”.

वैसे ही डेज़ पास्ड और एक दिन मेरा ऑफीस थोड़ा जल्दी ख़त्म हो गया तो मैं 5 बजे ही घर पहुच गया उस दिन निकिता बैठी थी घर पे टीवी देख रही थी तो मैं शॉक सा हो गया वो मेरे ब्लू फिल्म्स की द्वडस लगा के देख रही थी तो वो सडन्ली दर गयी तो मैं कुछ नही बोला तो उसने द्वड प्लेयर बंद कर दिया और नॉर्मल टीवी चालू करके निकल रही थी तो मैने उसे रोका और बोला “अर्रे बैठो ना नो प्राब्लम कुछ ग़लत नही है” देन वो बैठी डारी हुई थी उसने कहा “अर्रे विजय प्ल्स ये बात किसिको मत बताओ और तुम भी इस बात को इग्नोर कर दो प्ल्स ” देन मैने बोला “क ठीक है ” देन वो अगले दिन से रोज़ मेरे आने तक मेरर ही घर पे बैठी रहती थी जब मैं आता तो मेरे लिए चाय बनके लाती और दोनो देर तक बात करते बैठते थे मैं सिगरेट पिता था उसको उसके स्मोक से भी कुछ प्राब्लम नही था.

एक दिन वैसे ही जब मैं आयतो वो फिर से मेरी वो ब्लूम फिल्म्स वाली द्वड लगा कर देखराहि थी तो मैने वो देखा और उसको पूछा ” क्या कुआ बहुत ब्लू फिल्म्स देखने का शोआक् चड़ा है तुम्हे” तो उसने पुर डेरिंग से बोला “हा कुछ ऐसे ही समझ लो रियल लाइफ मे तो कुछ ज़्यादा मिलता ही नही ” तो हमारा कॉन्वर्सेशन कुछ ऐसा चला.
मे : “क्यूँ क्या हुआ”
निकी: “कुछ नही बस मेरे हज़्बंद को सेक्स के लिए टाइम ही नही रहता”
मे: क्यूँ?
निकी: वो आते है रात के 11 बजे जब तक मुझे बहुत ही नींद आती है मैं सोई रहती हू वो आके खाना खाते ही सोजते है मुझे तो बहुत ही सेक्स करने का इंटेरेस्ट है बुत उनको टाइम नही है मेरे लिए.
मे: ओह तो अब क्या करना चाहतिहो?
निकी: कुछ नही
मे: इफ़ उ डोंट माइंड मैं तुम्हे सॅटिस्फाइ कर सकता हू
निकी: ये सुनते ही वो बोली अर्रे नही इट्स ओक
मे: देखलो गोलडेन ऑपर्चुनिटी दे रहा हू मेरे जैसा जबरदस्त लड़का ढूँदने से भी नही मिलेगा तुम्हे
(उसने 2 3 बार माना किया देन फाइनली उसने आक्सेप्ट किया )
निकी: तुम क्या कर सकते हो बताओ
मे: बताउँगा नही सब कुछ करके दिखौँगा

मैने उसको मेरी ओर उसका हाथ पकड़के खीच के हग कर लिया तो उसने बोला “इतनी छोटी सी बात समझने इतने दिन लग गये तुमको विजय?” मैं उसके इस बात को सुनते ही फुल टेंप्ट हो गया ओर उसको किस करने लगा होतो पे फुल ज़ोर से किस किया उसने भी बहुत ही इंटेरेस्ट से को ऑपरेट किया फिन मैने उसके कपड़े उतरे उसके बूब्स ओह माई गोद वो तो गोरे गोरे सॉफ्ट जेल्ली की तरह थे मैने उन बूब्स को शककर रहा था 5 मिन्स के बाद उसने बोला “सिर्फ़ तुम ही चूस्टे रहोगे या मुझे भी लॉलिपोप चूसने का मौका दोगे?” देन मैं उठा देन उसने मेरे सारे कपड़े उतरके मेरा 7.5 इंचस का लौदा उसके हाथ मे लिया ओर बोला “अर्रे वा ये तो मेरे हज़्बंद के लंड से टोब काफ़ी बड़ा है सेम तो सेम ब्लू फिल्म मे रहता है उतना बड़ा” देन उसने उसे चूसना चालू किया 10 मिन्स तक उसने मुझे ब्लोवजोब दिया मेरा आउट हो गया उसने वो पूरा लिक्विड पे लिया देन उसने ओर 2 3 मिन्स तक चूसा ओर मेरा अगेन खड़ा हो गयेा तो उसने कहा “चलो रियल गेम शुरू करते है” मैने कहा ” मैं तो कब से रीडी हू” तो उसने कहा “अचा तो कब से मैं चूस रही हू तुम मज़े ले रहे थे तब क्यूँ नही रोका” देन मैने बोला “अर्रे आजओ इधर अब वो सब बाते चोदो”.

मैने उसको पूरा नेकेड किया और उसे बेड पे लिटाया तो उसने आपने दोनो पैरों को खोलके उसके चुत का व्यू दिखाया जो की उसने अच्छे से शेव करके रखा था देन मैं ओर टेंप्ट हो गयेा उसकी क्लेअनलि शेव्ड चुत देख कर मैने उसके चुत को 4 मीं तक चूसा वो मेरा सिर पकड़के बोल रही थी “आाज विजय तुम कितने अच्छे से चूस्टे हो” “आ विजय तुम मुझे पहले क्यूँ नही मिले” अयाया विजय आआआहह” देन उसने मुझे मेरा सिर पकड़के उठाया ओर मेरे कानो मे आके बोला “प्ल्स विजय मेरी चूओत बहुत ही प्याअसी है लौदे की प्यासी है मुझे आअज बहुत चोदा बूऊऊऊःॉट चोदो” ये सुनते ही मैने उसके चुत मे मेरा लौदा डाला ओर ज़ोर से धक्का लगाया तो उसकी अयाया निकल गयी देन उसे थोड़ा दर्द हुआ उसने बोला “अर्रे विजय थोड़ा धीरा से” देन मैने उसको चोदा बहुत चोदा” 10 मिन्स तक चोदते ही रहा तो उसके आअंखे बंद थी ओर उसके ज़ुबान से तो सिर्फ़ ” विजय चोदा विजय चोदा विजय चोदा मुझे बहुत चोदा जूऊर से चोदा प्यार से चोदा मेरा हज़्बंद तो मुझे प्यार नही कराता तुम तो मुझे चोदा जितना मैं चाहती हू प्ल्स विजय चोद ते ही रहो छोद्द्द्द्दद्डूऊऊऊऊ” देन मेरा आउट हो गया तो उसने बोला “तुम मेरे अंदर ही आउट करो मुझे बहुत अच्छा लगेगा” ओर उस दिन उसका पाती घर नही आने वाला था तो वो मेरे घर पे ही थी रात भर और हम दोनो ने रात भर ब्लू फिल्म्स देखते वही पोज़िशन्स मे सेक्स किया.

उस दिन के बाद मे से तो मेरी तो जैसे लॉटरी ही लग गयी रोज़ जब मैं घर जाता हू तो मेरे लिए फ्रेशन उप होने के लिए गरम पानी छाए ओर एक मस्त सेक्सी आंटी आपने ब्रा पेंटी मे मेरे बेड पे तय्यार रहती थी वाइल्ड सेक्स सेशन के लिए. नाउ ई मूव्ड तो माई होमे टाउन बेलगौम जो कोई लड़की /आंटी मेरएसए मिलना चाहती है बेलगौम मे तो मुझे कॉंटॅक्ट कर सकते है|

aunty ke sath pyar, desi sex kahani with real Indian aunty, aunty ne pero ke sath mere lund ki muth mari, legs me lund ragra kahani, antarvasna sex kahani

Rate This Story